मुस्लिम है सच्चे हिन्दुस्तानी, तबरेज खान ने 1 बार नहीं 7 बार दिया कोरोना मरीजों को प्लाज़्मा दान

को’रो’ना म’हामा’री के बीच इस वा’इ’र’स के इला’ज के लिए अभी तक कोई वैक्सी’न भी नही आई है, सिर्फ प्ला’ज्मा के अलावा। लेकिन रूस ने दावा किया है अगस्त में वै’क्सीन आ जायेगी । वही दूसरी तरफ जिस तरह से न’फ’र’ते फै’लाई जाती है उसी तरह से आपसी सौहा’र्द की मि’सा’ल भी कायम होती हुई आ रही है। इस वाइ’र’स से लड़ाई में ठीक हो चुके म’री’जो का प्ला’ज्मा ही सबसे बड़ा ‘ह’थि’या’र बना हुआ है।

ऐसे में कई लोग अब को’रो’ना म’री’जो की मदद के लिए आगे आ रहे है। जिससे उनकी जा’न ब’च स’के और प्ला’ज्मा डो’ने’ट कर रहे है। दिल्ली के रहने वाले मुस्लि’म स’मु’दाए से ताल्लुक रखने वाले तब’रेज खा’न जो 37 साल के है। जिन्होंने अपना प्ला’ज्मा डोने’ट सिर्फ एक बार ही नही बल्कि सात’वी बार कर रहे है। त’बरेज अब तक 6 बार प्ला’ज्मा डोनेट कर चुके है। उन्होंने लोल नायक अस्प’ताल में वो प्ला’ज्मा डोनेट किया है।

तबरेज ने बताया है कि 12 मार्च को वो को’रो’ना पी’ड़ि’त हुए थे। इस दौरान उनकी बहन समेत परिवार के अन्य लोग भी को’रो’ना की च’पे’ट में आए थे। दरअसल, उनकी बहन सऊदी से लोटी थी ओर वो बाद में को’रो’ना पी’ड़ि’त निकली। हालांकि, वो 16 दिन में को’रो’ना से ठी’क भी हो गए थे। इसके बाद उन्होंने आई’एल’बी’एस में जाकर उन्हीने प्ला’ज्मा डोने’ट किया था।

तबरेज ने बताया है कि वो 6 बार प्ला’ज्मा डो’ने’ट करने के बाद बिल्कुल स्व’स्थ है। वो प्ला’ज्मा देकर बहुत खुश है।जब वो को’रो’ना से ठी’क होने के बाद घर पर पहुचे तो उन्हें काफी भे’द’भा’व झेलना पड़ा था, लेकिन उन्होंने प्ला’ज्मा देकर इस बात को साबित कर दिया है कि उनका खु’न को’रो’ना के इ’ला’ज के लिए कितने काम का है। उन्होंने दिल्ली में ठीक हुए लोगो से भी प्ला’ज्मा देने की अपील की है। जिससे दूसरे इं’सा’नों की जा’न ब’च’ स’के।

तबरेज ने कहा है कि ‘प्ला’ज्मा’ देने का फैसला मेने इसलिए लिया कि मैं अपने देश के किसी काम मे आने के लिए खुश’कि’स्मत समझता हूं। एक जिम्मेदर नाग’रिक होने के नाते ही अगर मेडि’कल काउं’सिल मेरी बॉ’डी का कोई हिस्सा लेकर किसी भी तरह का कोई रिस’र्च करना चाहे तो मैं उसके लिए भी तैयार हूं।