इंसाफ: नॉर्वे मस्जिद पर ह’मला करने वाले को मिली 21 साल की स’ज़ा

नॉर्वे के अभियोजकों ने बुधवार को एक दूर-दराज के च’रमपं’थी के लिए 21 साल की स’जा का अनुरोध किया, जिसने अपनी सौतेली बहन की ह’ त्या के बाद ओस्लो के पास एक मस्जिद में आ’ग लगाने की बात स्वीकार की।

22 साल के फिलिप मंसह पर ह’त्या का आरोप है और वह आतं’क का कार्य कर रहा है। अभियोजक जोहान ओवरबर्ग ने अपने समापन बयान में ओस्लो के बाहर एक अदालत से कहा, “वह बहुत लंबे समय तक खत’रना’क होने की संभावना है।”

मानसॉस को 10 अगस्त, 2019 को बैरुम के संपन्न ओस्लो उपनगर में अल-नूर मस्जिद में बुलेट प्रूफ बनियान पहने एक हेलमेट और उसमें लगे कैमरे के साथ हेलमेट पहनकर आ’ग लगाने के बाद गिर’फ्ता’र किया गया था।

उस समय मस्जिद में सिर्फ तीन नमाज़ी थे, और 65 वर्षीय एक व्यक्ति ने मंसूब पर हम’ ला किया, जिससे कोई गंभी र रूप से घा’ यल नहीं हुआ।

पुलिस ने कहा कि उसके पिता की प्रेमिका, जोहान झांगजिया इहल-हैनसेन को चार गो’लियों से मा’र डाला गया था।

नॉर्वे में आजीवन कारावास की स’जा नहीं है, लेकिन अनुरोध की गई हि’रास’त को अनिश्चित काल तक बढ़ाया जा सकता है, जब तक कि व्यक्ति को समाज के लिए ख’तरा माना जाता है।